‘Right choice ‘ is always better than ‘My choice’


 

My Choice नाम के अपने वीडियो एल्बम के द्वारा चारित्रिक अराजकता से लथपथ व्यभिचारी आचरण का खुला समर्थन करते हुए उसका अश्लीलतम प्रचार प्रसार कर रही दीपिका पादुकोण को लेखिका उषा राठोड़ जी ने जिस प्रकार उत्तर दिया है उसके लिए उनका कोटि कोटि अभिनंदन उन्होंने अपनी फेसबुक वॉल पर लिखा है.

‘My choice’कि दीपिका पादुकोण जी आप अपने किसी खास वर्ग की औरतों के बारे में बात कर रही होंगी, क्योंकि चॉइस पर दुनिया चलने लगी तो आपकी कोई चॉइस ही नहीं बचेगी … माय चॉइस के निर्देशक होमी अदजानिया और दीपिका जी अगर आपके माता पिता भी अपनी चॉइस से जिंदगी जीते तो आप आज यहाँ नहीं होते, जहाँ हैं … कौन सी लड़ाई सिखा रहे हैं आप औरतों को माय चॉइस के नाम पे?

अरे लड़ना हैं तो  पढाई के लिए लड़ो, कुछ कर गुजरने को लड़ो, आप अपने बच्चो को स्कूल लेकर जाओ और सारे टीचर ये कह दें कि हम सब पार्टी कर के सुबह 6 बजे लौटे हैं, इसलिए आज स्कूल नहीं खुलेगा, इट्स टीचर्स चॉइस ना?

आप अपने बच्चे को अपनी आया के भरोसे छोड़कर अपने पुरुष मित्र के साथ लेट नाईट पार्टी करेंगी, वापस घर सुबह 6 बजे लौटेंगी। … देखेंगी कि आपका बच्चा पॉटी, सू-सू से लथपथ पड़ा हैं, आपकी आया आपके बिल्डिंग के वाचमैन के साथ पार्टी करके मस्त टुन पड़ी हैं तो आप उसको मत डाँटना, बिकॉज़ हर किसी की चॉइस ना?

आपके एग्जाम सर पर हैं और आपके माता पिता अपनी चॉइस जी रहे हैं तो आप एक्टिंग का ए भी नहीं सीख़ पातीं समझीं … बात करती हैं माय चॉइस !

आपकी माँ भी इस चॉइस से एग्री नहीं करेगी, बात करती हैं माय चॉइस …
सेना में महिला जवान अपनी यूनिफार्म के साथ गोली बन्दुक लेकर सरहद सम्भाल लेती हैं, आप से एक दुपट्टा नहीं सम्भलता? … बात करती हैं माय चॉइस! …
जिन पुरुषों के साथ तुम भरोसा करके लेट नाइट पार्टी की बात कर रही हो ना, वो पुरुष प्रेम के नाम पर कब तुम्हें चलती-फिरती लाश बना देंगे, पता भी नहीं चलेगा …
दीपिका जी आप से अच्छी तो मेरी कामवाली है, जो हर घर में जाकर ये कह रही हैं कि भाभी में अपना बच्चा अकेला घर पे नहीं छोड़ सकती, क्या काम पर लेकर आऊँ? … क्योंकि उसे अपनी चॉइस पता हैं।
आप के क्लीवेज पर टिप्पणी हुई तो आपको बुरा क्यों लगा … आखिर पब्लिक की भी चॉइस हैं? … निर्देशक होमी अदजानिया, इन्ही साहब ने कॉकटेल में अपनी चॉइस से जीने वाली को क्लाइमेक्स में लात मार कर घरेलू, परन्तु स्वाभिमानी लड़की को हीरो की हीरोइन बना दिया।
इस वीडियो की स्क्रिप्ट ऐसे भी तो लिखी जा सकती थी?
कि में अपनी अधूरी छूट गई पढाई फिर पूरी करुँगी इट्स माय चॉइस … मैं घर के साथ आपका बिजनैस भी सम्भालूंगी इट्स माय चॉइस … एक बेटी होने के बाद दूसरी बेटी के होने पर तीसरा बच्चा पैदा नहीं करुँगी इट्स माय चॉइस … बेटी को गर्भ में नहीं मरने दूंगी इट्स माय चॉइस … दहेज़ नहीं लाऊंगी इट्स माय चॉइस … जब तक अपने पैरों पर खड़ी नहीं होउंगी शादी नहीं करुँगी इट्स माय चॉइस … अपने माता-पिता को अपने साथ रखूंगी इट्स माय चॉइस … तुम्हारी ऑफिस की पार्टी में शोपीस बनकर नहीं जाऊँगी इट्स माय चॉइस … बेवकूफ औरतों, अपने इम्पावरमेंट के लिए कौन सी स्क्रिप्ट चूज़ करनी है, ये भी नहीं आता !
और हाँ अपने वीडियो के व्यूवर देख कर ज्यादा खुश न हो, पसंद बहुत कम लोगों ने किया है समझीं? …
बात करती हैं इट्स माय चॉइस … ।

આ લેખ ફેસબુક પર ઉષા રાઠોડનો છે જો કે લેખનું ટાઇટલ મેં આપેલ છે.

મારું મંતવ્ય:

માય ચોઈસ વિડીયોમાં દીપિકાએ અને બીજી 99 સ્ત્રીઓએ જે કહ્યું છે તે માત્ર કમાણી માટે જ છે મેગેઝીન અને દીપિકા અને તેમાં સામિલ સ્ત્રીઓએ જે કહ્યું તે કોઈના અંગત વિચારો હોઈ શકે પણ સ્ત્રી સશક્તિકરણ માટે યોગ્ય નથી અને અંગત વિચારો અંગત સશક્તિકારણ માટે ઠીક છે પણ બધી જ સ્ત્રીઓને લાગુ ના પડે તેવું માનનારા અને તેનો વિરોધ કરનારા દંભી કે ખોટા પુરવાર નથી થતા ફ્રીડમ ઓફ એક્ષ્પ્રેશન ના નામે કોઈપણ અંગત વિચારો કે અંગત જીવનશૈલી સાચી પુરવાર ના થાય અને તેનો વિરોધ કરવો પણ એક ફ્રીડમ ઓફ એક્શ્પ્રેશન જ છે.
ફ્રીડમ ઓફ એક્શ્પ્રેશન કે ફ્રીડમ ઓફ ક્રિયેટીવીટીનો વિરોધ ના હોય પણ તેના નામે કોઈપણ વિચારોને માન્યતા પ્રાપ્ત નથી થઇ જતી.
મારા અગાઉના હાસ્ય લેખ માં શ્રી અશોકભાઈ મોઢવાડિયાની વાત યાદ આવી ‘ જ્યાં પેટ માટેના પાંપણા માંડી બેઠા હોઈએ ત્યારે અન્ય માટેની લાગણીનો વિચાર નથી આવતો કાં તો મોડો આવે છે’ એમ દીપિકા કે તેના  જેવા અમુક લોકોને પોતાની કેરિયરના થોડા સમય દરમ્યાન કમાઈ લેવાનું હોય તે આવા વિડીયોની અસર સમાજ પર શું થશે તેવું શું કામ વિચારે?

તેના વિડીયો દ્વારા રજુ કરેલા વિચારો પ્રમાણે તો દીપિકા પણ નહિ જીવે તો પછી તેને આવા વિડીયો દ્વારા અપરિપક્વ સમાજ સામે આવા વિચારો રજુ કરી શુ   સ્ત્રી સશક્તિકરણનું કાર્ય કર્યું?
લેખિકા ઉષા રાઠોડની વાત સાચી છે સ્ત્રી સશક્તિકરણ માટે ઘણા મુદ્દા છે તેના પર વિડીયો બનાવ્યો હોત તો ઘણું યોગ્ય ગણાત.

 

 

 

પ્રતિસાદ આપો

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  બદલો )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  બદલો )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  બદલો )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  બદલો )

Connecting to %s